news-portal-verz-technologies

रिपोर्ट राजेश चौबे

आजमगढ़ सदर तहसील क्षेत्र आजमबध निवासी मनोज उपाध्याय पुत्र सत्यप्रकाश उपाध्याय जिला प्रशासन की कार्रवाई असंतुष्ट होकर उत्तर प्रदेश शासन मुख्यमंत्री योगी जी से जांच कराकर दोषियों के ऊपर कार्रवाई की मांग की है पीड़ित मन उपाध्याय ने बताया गांव के ही अनिल पुत्र उदय राज अशोक यादव पुत्र राम राम उगर ये लोग काफी दिमाग बढ़ा गोल बंद किस्म के व्यक्ति हैं जो कि पीड़ित के गाटा संख्या 235 के व 235 खेकौट को 3 साल पहले गुंडागर्दी के बल पर जबरदस्ती आरसीसी रोड का निर्माण करा दिया था पुनीत परिवार को जान से मारने की आशंका भी दी गई। जिसको लेकर पीड़ित परिवार कुछ नहीं कर पाया पाया पीड़ित परिवार के लोगों ने आरोप लगाया तहसील एसडीएम द्वारा 1/11/2020 को माननीय उच्च न्यायालय का झूठा आदेश जारी कर राजस्व टीम को भ्रमित करते हुए उन्हें आरसीसी रोड को तोड़ कर सड़क का निर्माण कराया गया दबंगों ने। के प्रभाव में आकर राजस्व विभाग की टीम द्वारा माननीय उच्च न्यायालय के आदेश को न पढ़ते हुए दबंगों कोपर विश्वास करते हुए स्पिन का निर्माण राजस्व टीम द्वारा मौके पर बैठकर बना गई गई को कहा गया मम्मी उच्च न्यायालय के आदेश में साफ शब्दों में लिखा है कि अवैध अतीरामन को खाली कराकर होना कोई भी काम किया जाना माननीय उच्च न्यायालय के आदेश को ना तो गया है। राजस्व टीम दवाइयों के प्रभाव में आकर पीड़ित परिवार महिला पुरुष को एक एक तरफ द्वारा कार्रवाई करते हुए 151 में संयुक्त कर जेल भेज दिया गया है पीड़ित परिवार के लोगों को इस कार्रवाई से परेशान होकर प्रदेश के मुखिया गलत तरीके से निर्माण कार्य कराया गया उसकी जांच कराकर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है पुलिस प्रशासन द्वारा पीड़ित परिवार के घर पर जाकर बार-बार धमकाया जाता है और जेल भेजने की सजा दी जाती है।न्यायालय के आदेश को ना देखा गया राजस्व टीम दवाइयों के प्रभाव में आकर पीड़ित परिवार महिला पुरुष को एक तरफ करके कार्रवाई करते हुए 151 में संग्रह कर जेल भेज दिया गया है पीड़ित परिवार के लोगों को इस कार्रवाई से परेशान होकर प्रदेश के मुखिया गलत तरीके से निर्माण करते हैं कार्य किए गए उसकी जांच कराकर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है पुलिस प्रशासन द्वारा पीड़ित परिवार के घर पर जाकर बार-बार धमकाया जाता है और जेल भेजने की धमकी दी जाती है।न्यायालय के आदेश को ना देखा गया राजस्व टीम दवाइयों के प्रभाव में आकर पीड़ित परिवार महिला पुरुष को एक तरफ करके कार्रवाई करते हुए 151 में संग्रह कर जेल भेज दिया गया है पीड़ित परिवार के लोगों को इस कार्रवाई से परेशान होकर प्रदेश के मुखिया गलत तरीके से निर्माण करते हैं कार्य किए गए उसकी जांच कराकर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है पुलिस प्रशासन द्वारा पीड़ित परिवार के घर पर जाकर बार-बार धमकाया जाता है और जेल भेजने की धमकी दी जाती है।

verz technologies website designing company