अर्थराइटिस/समस्या को बढ़ा सकते हैं ये, 5 फूड्स, आज ही करें डाइट से बाहर...........
अर्थराइटिस/समस्या को बढ़ा सकते हैं ये, 5 फूड्स, आज ही करें डाइट से बाहर...........p14news
news-portal-verz-technologies

अर्थराइटिस -यानी गठिया की समस्या होने पर जोड़ों में सूजन आ जाती है, जिस कारण असहनीय दर्द होता है। इस दर्द का असर सेहत पर भी धीरे-धीरे दिखने लगता है। वैसे तो यह समस्या उम्र ढलने वाले लोगों में ज्यादा देखने को मिलती है लेकिन बदली हुई लाइफस्टाइल के कारण हर उम्र के लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ जाने से यह समस्या होती है। अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ाने में दिनचर्या के साथ-साथ आहार भी बहुत अहम भूमिका निभाते हैं। आज हम आपको उन आहारों के बारे में बताएंगे, जिनके सेवन से यह समस्या और बढ़ सकती है।

मांस और मछली..
अर्थराइटिस की समस्या हो जाने पर मांस और मछली से परहेज करना ही बेहतर रहेगा। मांस और मछली में पाए जाने वाला प्यूरिन हमारे शरीर में ज्यादा यूरिक एसिड पैदा करता है। हिलसा मछली, एन्कोवी और टूना जैसी मछलियों सहित रेड मीट में प्यूरिन काफी मात्रा में पाया जाता है।

मीठा भोजन..
गठिया के मरीजों को मीठे चीजों को खाने से परहेज करना चाहिए। शुगर का अधिक सेवन करने से शरीर के कुछ प्रोटीन्स का ह्रास होता है। यह आपके गठिया के दर्द को बढ़ाता भी है।

डेयरी प्रोडक्ट..
दूध से बने उत्पादों के सेवन से अर्थराइटिस का दर्द बढ़ सकता है। क्योंकि पनीर और बटर जैसे डेयरी प्रोडक्ट में कुछ ऐसे प्रोटीन होते हैं, जो जोड़ों के आसपासमौजूद ऊतकों को प्रभावित करते हैं। इस वजह से जोड़ों में दर्द बढ़ जाता है।

अल्कोहल और सॉफ्ट ड्रिंक..
गठिया के मरीजों को अल्कोहल और सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन करने से बचना चाहिए। खासतौर पर बीयर का तो एकदम नहीं सेवन करना चाहिए। क्योंकि ये शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा को बढ़ा देता है। इसी तरह सॉफ्ट ड्रिंक खासकर मीठे पेय या सोडा में फ्रेक्टोस नामक तत्व होता है, जो यूरिक एसिड के बढ़ने में मदद करता है।

टमाटर..
टमाटर में कुछ ऐसे रासायनिक घटक पाये जाते हैं जो गठिया के दर्द को बढ़ाकर जोड़ों में सूजन पैदा करते हैं। इसलिए टमाटर खाने से परहेज करें।

 

verz technologies website designing company